Ebook Kise Kahte Hain In Hindi : Full Information

5/5 - (1 vote)

नमस्कार दोस्तों आज की पोस्ट के माध्यम से हम जानेंगे Ebook Kise Kahte Hain In Hindi के बारे में विस्तार से पूरी जानकारी ! आज की इस डिजिटल दुनियां में,जहां हम जानकारी और मनोरंजन करने का तरीका काफी बदल गया है . Smartphone, tablet और e-reader के उभार से, electronic books, जिन्हे आम तोर पर eBook कहते हैं, ये काफी लोकप्रिय हो गया है. eBooks सुबिधा, portability और तुरंत पहुंच प्रदान करते हैं

Ebook Kise Kahte Hain In Hindi
Ebook Kise Kahte Hain In Hindi

Ebook Kise Kahte Hain In Hindi: क्या होती है?

दोस्तो,, प्रौद्योगिकी के आगमन के साथ, मुद्रित पुस्तकें और ई-पुस्तकें दोनों दुनिया भर के पाठकों के लिए उपलब्ध हैं। किताबों का हमारे जीवन में बहुत महत्व है। ऐसा भी कहा जाता है कि किताबें इंसान की सबसे अच्छी दोस्त होती हैं। किताबें हमेशा हमारा साथ देती हैं. किसी भी किताब के पन्ने को पलटते हुए हम अपनी आस-पास की कई चीज़ों को जान पाते हैं. लेकिन आजकल पन्ने पलटे नहीं जाते बल्कि स्वाइप किये जाते हैं। प्रौद्योगिकी के आगमन के साथ, मुद्रित पुस्तकें और ई-पुस्तकें दोनों दुनिया भर के पाठकों के लिए उपलब्ध हैं। जी हां , आज हम जानेंगे Ebook Kise Kahte Hain In Hindi के बारे में ,

ई-बुक क्या है (Ebook Kya Hai)

ई-बुक शब्द दो शब्दो से मिलकर बना है ई+बुक यानी इलेक्ट्रॉनिक पुस्तक  अर्थात् डिजिटल पुस्तक , इसमें कागज का प्रयोग नहीं किया जाता है| यह एक डिजिटल फाइल होती है | इसे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों जैसे कंप्यूटर, मोबाइल फोन और अन्य डिजिटल उपकरणों द्वारा पढ़ा जाता है। इसका उपयोग करने के लिए इंटरनेट की आवश्यकता होती है। ई-बुक कई फॉर्मेट में बनायीं जाती है जैसे पीडीएफ/PDF (पोर्टेबल डॉक्यूमेण्ट फॉर्मेट), ऍक्सपीऍस इत्यादि, इनमें सबसे अधिक पीडीएफ फाइल प्रचलित है| भविष्य में कागज की पुस्तकों के स्थान पर ऑडियो पुस्तक, मोबाइल टेलीफोन पुस्तक, ई-पुस्तक का प्रयोग किया जायेगा।

ईबुक के फायदे (Benfits of Ebooks)

E-book को किसी भी समय और स्थान पर प्राप्त किया जा सकता है। इसके लिए आपको मार्केट या बाहर जाने की आवश्यकता नहीं होती है

  • पर्यावरण की दृष्टि से टिकाऊ एक ऐसा मुद्दा जिसे छात्रों से अधिक से अधिक समर्थन मिल रहा है और प्रिंट या डिजिटल किताब खरीदने का चयन करते समय यह एक बड़ा कारक है। यह पुस्तकों के निर्माण के लिए कोई कागज या स्याही का प्रयोग नहीं होता है जिसे पर्यावरण पर इसका कोई प्रभावित असर नहीं होता है ।
  • संग्रह और आसान – यह पुस्तक कम जगह लेती हैं व्यावहारिक रूप से अपने एकत्रित करने की कोई आवश्यकता नहीं होती है आप अपने रीडिंग डिवाइस पर सैकड़ो पुस्तक संग्रहित कर सकते है
  • ई-पुस्तकें पोर्टेबल हैं- यह पुस्तके पोर्टेबल होती हैं यानी आप इन्हें लैपटॉप स्मार्टफोन किसी की ईबुक रीडर आदि में बिना किसी वजन के अपने साथ रख सकते हैं  व ले  भी जा सकते हैं
  • ई -पुस्तकों से नोट लेना –आसान हो गया है क्योंकि छात्र पाठ के अनुभागों को हाइलाइट कर सकते हैं और अपने विचार जोड़ सकते हैं। यह अध्ययन समूहों को अधिक उत्पादक बनाता है क्योंकि छात्र आगे की चर्चा के लिए नोट्स और एनोटेशन साझा कर सकते हैं।
  • आकर्षक और इंटरैक्टिव – दोस्तों , ई-पुस्तकें इंटरएक्टिव भी होती हैं जिसमें ऑडियो और वीडियो एनीमेशन भी शामिल हो सकते हैं। रंगीन चित्र,highlight की सुविधा,videos आदि इसे और आकर्षित और इंटरैक्टिव बनाती हैं।

ई-पुस्तकों के लाभ और उच्च शिक्षा में उनकी संभावनाएँ

Ebook Kise Kahte Hain In Hindi

शिक्षा की दुनिया में भी यह पुस्तक बेहद लोकप्रिय साबित हो रहे हैं विद्यार्थी इंटरनेट के माध्यम से अपने पाठ्यक्रम अनुसार ई- बुक्स को विभिन्न वेबसाइट से डाउनलोड भी कर सकते हैं प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए ई -बुक वरदान साबित हो सकती है वह अपनी परीक्षाओं की तैयारी हेतु प्रीवियस ईयर बुक्स, क्वेश्चन पेपर, नोट्स इत्यादि डाउनलोड कर सकते हैं।

E-book दूरस्थ शिक्षा में भी बड़ी सहायक होती हैं। इसमें इसमें एक विद्यार्थी शिक्षण संस्थान से दूर होकर भी पाठ्यक्रम को e-book रीडर और डिवाइस पर आसानी से पढ़-लिख और देख सकता है।विभिन्न विभिन्न प्रैक्टिकल्स एक्सपेरिमेंट्स को वह एनीमेशन और वीडियो के माध्यम से गहराई से समझ सकता है।

हालाँकि, हजारों छात्रों और प्रत्येक पुस्तक की सीमित प्रतियों वाले विश्वविद्यालयों में अकादमिक पाठ्यपुस्तकें और संदर्भ सामग्री ढूंढना मुश्किल हो सकता है।यह सिर्फ एक कारण है कि अधिक से अधिक छात्र भौतिक पुस्तकों के बजाय ई-पुस्तकों की ओर रुख कर रहे हैं।

आर्थिक लाभ

पारंपरिक लिखित पुस्तकों की तुलना में यह पुस्तके खरीदना कम महंगा होता है कॉलेज के उन छात्रों को लाभ होता है जो महंगी पुस्तक नहीं खरीद सकते।ई-बुक के द्वारा पैसों की बचत होती है, यह साधारण किताबों से सस्ती होती है| इसे इंटरनेट के द्वारा डाउनलोड किया जा सकता है | इसको खरीदने के लिए किसी मार्केट में नहीं जाना पड़ता है| सबसे महत्वपूर्ण यह की  हम एक क्लिक पर करोड़ों स्रोतों sources पर पहुंच सकते हैं ।

E books को लाने- ले जाने की Solution

ई-बुक को साधारण पुस्तकों की तरह एक स्थान से दूसरे स्थान पर लेकर जाना नहीं पड़ता है| यह ऑनलाइन उपलब्ध रहती है आप इन्हें अपने मोबाइल, लैपटॉप या अन्य डिवाइस में स्टोर कर सकते है| जिससे इसको अलग से लाना और ले जाना नहीं होता है|

प्रिंटिंग का खर्च (Printing Expenses)

ई बुक्स की कॉस्ट-ऑथर, पब्लिशर, फॉर्मेट और डिस्ट्रीब्यूशन चैनल जैसे फैक्टर्स के आधार पर ईबुक की लागत अलग अलग हो सकती है।  बेस्टसेलर और नई रिलीज़ अधिक महंगी होती हैं, जबकि पुरानी या क्लासिक पुस्तकें अक्सर कम खर्चीली होती हैं।   ई-बुक्स मेंबरशिप सर्विसेज मासिक शुल्क पर ई-बुक्स के एक बड़े चयन तक पहुंच प्रदान करती हैं।  कुल मिलाकर, ई-पुस्तकें आम तौर पर मुद्रित पुस्तकों की तुलना में कम महंगी होती हैं, जिससे साहित्य पाठकों के लिए अधिक सुलभ हो जाता है और लेखकों और प्रकाशकों के लिए नए अवसर खुलते हैं।

ई-बुक का उपयोग (Uses Of Ebook)

Ebook Kise Kahte Hain In Hindi

ई-बुक का उपयोग मोबाइल, लैपटॉप या अन्य डिवाइस के द्वारा उपयोग किया जाता है, इसको कही भी किसी भी स्थान पर प्रयोग किया जा सकता है। ई-पुस्तकों को ऑफ़लाइन मोड में भी एक्सेस किया जा सकता है

सिर्फ इसलिए कि ई-पुस्तकें डिजिटल संस्करण हैं इसका मतलब यह नहीं है कि आपको 24/7 इंटरनेट पर निर्भर रहने की आवश्यकता है। यदि किसी प्रकार की नेटवर्क कनेक्टिविटी समस्या उत्पन्न होती है, तो भी आप अपना पाठ पढ़ना जारी रख सकते हैं। आश्चर्य है कैसे? खैर, बस इसे डाउनलोड करके! डाउनलोड होने के बाद आप जब चाहें इसे ऑफलाइन एक्सेस कर सकते हैं

प्रयोग करें ध्यान से

ई-बुक को इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस पर ही यूज किया जा सकता है, इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस अधिक यूज करने से आँखों को बहुत ही नुकसान होता है, कई बार आँखों में लाल और सूजन की शिकायत भी आने लगती है| हमें चाहिए की हम किसी भी स्क्रीन पर अधिक समय न बिताए। एक study  के अनुसार डॉक्टर्स सलाह देते हैं कि हमें सोने से 1 से 2 घंटा पहले तक ही स्क्रीन पर देखना और प्रयोग मे लाना चाहिए

लोकप्रिय ई बुक्स प्लेटफॉर्म्स

कुछ लोकप्रिय ई बुक्स प्लेटफॉर्म्स के नाम नीचे दिए गए हैं-

  • Amazon Kindle
  • Apple Books
  • Barnes & Noble Nook
  • Google Play Books
  • Kobo
  • Project Gutenberg
  • Scribd
  • Smashwords
  • Wattpad
  • OverDrive

दुनिया भर में ईबुक के उपयोगकर्ताओं की संख्या 2018-2027 डिजिटल मीडिया बाज़ार के ‘ईबुक्स’ खंड में उपयोगकर्ताओं की वैश्विक संख्या 2024 और 2027 के बीच कुल 92.9 मिलियन उपयोगकर्ताओं (+9.02 प्रतिशत) तक लगातार बढ़ने का अनुमान है । विश्व में यह आंकड़ा अभी बढ़ने की ओर ही है।

इसे भी पढ़ें : ईबुक से पैसे कैसे कमाएं 

Conclusion

यहाँ पर हमनें आपको Ebook Kise Kahte Hain In Hindi के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी है, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

Pramod Saini

Welcome! Thank you for visiting www.pramodsaini.com - a place where you can uncover the secrets of making money online. I am Pramod Saini, your companion and a fellow traveler in the world of making money online.

Leave a comment