Hindi Blog Ke Liye Keyword Research Kase Kre l Beginner’s full Guide

Rate this post

दोस्तो आज के इस लेख में हम जानेंगे कि ”Hindi Blog Ke Liye Keyword Research Kase Kre” के बारे में कम्पलीट जानकारी। दोस्तों अगर आपको नहीं पता Keyword Research Kase Kre तो आपको इस पोस्ट को शुरू से लेकर लास्ट तक जरूर पढें।

Hindi Blog Ke Liye Keyword Research Kase Kre
Hindi Blog Ke Liye Keyword Research Kase

क्योंकि जब तक आप अपने ब्लॉग के लिए Keyword research नहीं करेंगे तो गूगल को पता नहीं चलेगा कि आप यूजर को किस टॉपिक पर जानकारी देने बाले है।

इसलिए आपकी पोस्ट गूगल में रेंक नहीं करेगी जिसकी वजह से आप Demotivate हो जाते हो। इसलिए सबसे जरूरी है अपने आर्टिकल के लिए आप Keyword Research जरूर करें ताकि आपकी बेवसाइट को अच्छी रैंकिंग मिले।

Keyword क्या होता है

दोस्तो जब हम किसी भी प्रकार की जानकारी जानना चाहते हैं तो हम गूगल में या यूट्यूब पर कुछ शब्द लिखते हैं फिर हमें बो पूरी जानकारी मिल जाती है। इसी जानकारी को प्राप्त करने के लिए हमने जो शब्द गूगल में लिखे उसी को keyword कहते हैं

Keyword कितने प्रकार के होते हैं

दोस्तो ब्लोग्गिंग के फील्ड में Keyword तीन प्रकार के होते हैं

1. Head Keyword
Head Keyword उन Keyword को कहा जाता है जिनमें एक ही शब्द होता है ऐसे Keyword में कंपटीशन भी काफी ज्यादा होता है क्योंकि इसका सर्च विलियम सबसे ज्यादा होता है।ऐसे कीवर्ड पर काम करने के लिए बेवसाइट की अथॉरिटी अच्छी होनी चाहिए और आर्टिकल यूनिक होना चाहिए तभी आप इस तरह के कीवर्ड पर आपकी बेवसाइट रैंक कर सकती है। और नये ब्लोगर्स को शुरुआत में ऐसे कीवर्ड पर काम नहीं करना चाहिए। क्योंकि उनके लिए ऐसे कीवर्ड पर रैंक करना मुश्किल है

Head Keyword पर हाई अथॉरिटी बाली बेवसाइट ही गूगल में रैंक करती हैं Head Keyword जैसे “Money” यह एक हैड कीवर्ड है ऐसे कीवर्ड से नये ब्लोगर्स को हमेशा दूर ही रहना चाहिए।

2. Short Tail Keyword
Short Tail Keywords जिसमें में दो या तीन शब्द शामिल होते हैं। जैसे “Make Money” या “Make Money online” यह कीवर्ड Short Tail Keyword होते हैं। ऐसे कीवर्ड पर भी हाई कंपटीशन होता है और सर्च वोलियम भी ज्यादा होता है। ऐसे कीवर्ड पर भी नये ब्लोगर्स को शुरुआत में काम करना थोड़ा मुश्किल है।

Short Tail Keyword में कुछ ही कीवर्ड होते हैं जिनमें आप रैंक कर सकते हैं। पर ऐसे कीवर्ड तलाश करने के लिए आपको कीवर्ड रिसर्च करनी पड़ेगी।

3. Long Tail Keyword
Long Tail Keyword पर रैंक करना आसान होता है और ऐसे कीवर्ड की कीवर्ड Difficulty भी कम होती है। Long Tail Keyword जैसे “Hindi Blog Ke Liye Keyword Research Kase Kre” यह Long Tail Keyword होते हैं इन कीवर्ड में तीन से अधिक शब्द शामिल होते हैं
नये ब्लोगर्स को जल्दी सफलता प्राप्त करने के लिए Long Tail Keyword पर काम करना चाहिए। क्योंकि Long Tail Keyword पर कंपटीशन कम रहता है और सर्च वोलियम भी ज्यादा नहीं होता।

Keyword Research किसे कहते हैं

Keyboard Research करना वह काम होता है जिसका इस्तेमाल ऑनलाइन माध्यमों पर अच्छे और सबसे वेस्ट कीवर्ड की खोज करने के लिए किया जाता है।
अच्छे कीवर्ड की रिसर्च करते समय आपको उन keyword को चुनना होता है जिनके बारे मे लोग सबसे ज्यादा गूगल में सर्च करते हैं। कीवर्ड रिसर्च यह आपके कंटेंट को लोगो तक पहुंचाने में सहायता करता है।
आज के समय में keyword Research करने के लिए काफ़ी ऑनलाइन tools उपलब्ध हैं जिनकी सहायता से आप अच्छे कीवर्ड की रिसर्च कर सकते हैं।
Keyword Research अच्छे से करने से आपका कंटेंट उन लोगों तक पहुंच सकता है जिन्हें आपकी सेवाओं उत्पादों की जानकारी चाहिए होती है। जिससे आपका ऑनलाइन व्यापार में अच्छी सहायता मिलती है।

Keyword Research करने के फायदे

Content planning: Keyword Research से आप जान सकते हैं कि कोन कोन से Topics लोगों के intrest पर ज्यादा असर डाल रहे हैं। इससे आप अपनी Content planning को Better Organize कर सकते हैं और अपने Content को effective तरीके से utilize कर सकते हैं

Pramotion मे मदद:keyword research से आपको पता चलता है कि लोग किस तरह के Commercial Information और Products की सर्च में हैं। इससे आप अपने Products या सर्विस को अच्छे तरीके से प्रमोट कर सकते हैं और Target Audience को Attrect कर सकते हैं।

SEO(Serch Engine Optimization)में मदद:Keyword Research आपको यह जानने में सहायता करता है कि आपकी Website को कोन कोन से Keywords के साथ Optimize किया जाए। ताकि वह Serch Resellt में जल्दी आए।

Competition Analysis: Keyword Research से आप अपनी Competition को भी समझ समझ सकते हैं कि वो कोन कोन से Keyword पर काम कर रहे हैं और आपके Content के साथ Competition में कैसे उन्हें प्रभावित कर सकते हैं

Keyword Research कैसे करें?

Hindi Blog Ke Liye Keyword Research करने के लिए आप हमारे दिए गए इन सभी steps को Follow कर सकते हैं

  1. Topinc Selection: सबसे पहले आपको यह जानना जरूरी है कि आप किस topice या niche पर keyword Research करना चाहते हैं आपके Business Blog या कंटेंट का Focus क्या है इन बातों का ध्यान रखना सबसे ज्यादा जरूरी होता है।
  2. Seed Keyword: seed Keyword वो keyword होते हैं जो Directly आपके topice से रिलेटेड होते हैं। इन Keyword से आप शुरुआत करते हैं.For example अगर आप fitness पर ब्लॉग लिख रहे हैं तो “fitness tips” “exercise routines” healthy diet” etc.seed keyword कहलाते हैं।
  3. Keyword Research Tools: दोस्तो market में काफी सारे free और paid Keyword Research tools उपलब्ध हैं जिनका उपयोग करके आप relatede Keyword और उनका कितना Search Volumes है इन बातों का पता लगा सकते हैं।keyword Research करने के लिए सबसे Poupular tools हैं Google Keyword Planner,Semrush,Ahrefs,Ubersuggest,etc. इन टूल्स का उपयोग करके आप seed Keywords डालकर रिलेटेड Keyword की लिस्ट देख सकते हैं।
  4. Related keywords: इन Tools की मदद से आपको Seed keyword के related और Long-tail keywords मिलेंगे।long-tail keywords usually ज्यादा specific होते हैं और आपके कंटेंट को target करने में मदद करते हैं।
  5. Search Volume and Competition: Keyword के search volume और competition को analyze करें। High serarch volume वाले keywords ज्यादा popular होते हैं लेकिन उन keywords पर Competition काफी अधिक होता है इसलिए आपको Low cometition keyword choose करना काफी महत्वपूर्ण है।
  6. Relevance and Intent: दोस्तो Keyword को select करते समय आपको ध्यान देना हैं कि वो आपके कंटेंट या business से relevant हैं और यूजर्स के intent को reflect करते हैं। User intent यानी लोग किस टाइप के information या solution को google में search कर रहे हैं।
  7. Long-tail keywords: long-tail keywords का शुरुआत में सबसे अधिक इस्तेमाल करें। यह specific और focused होते हैं for example “best running shoes for beginners”एक long-tail keyword हो सकता है।
  8. Competitior Analysis: अपनी competition को analyze करें। आपको देखना है कि आपके competitiors किस keywords पर रैंक कर रहे हैं। आपके competitiors के startegies से inspiration लेकर अपने keyword को finalize करें।
  9. Content planning: Finalized keywords को अपने content planning में incorporate करें। अपने content के headings subheadings, और कंटेंट में keyword को naclude करें।
  10. Monitor and Update: Regularly अपने keywords की performance monitor करें। अगर कुछ keywords ज्यादा traffice लाने लगते हैं तो आप उनपर और detailed content create कर सकते हैं।

Keyword Defficulty क्या है?

Keyword Defficulty एक ऐसा measure है जिसे आप समझ सकते हैं कि एक specific keyword को गूगल मे रैंक कराना कितना आसान और कितना मुुश्किल हो सकता है। इस measurement के लिए अलग अलग metrics ka उपयोग होता है जैसे कि कितनी website और Keyword के लिए competition में हैं या फिर कितनी बार उस keyword को search किया जाता है

Keyword Defficulty के मुख्य तत्व

  1. Competition: इसमें यह जानना होता है कि कितनी website उस Keyword के लिए competition कर रही हैं। ज्यादा competition होने पर Keyword पर काम करना मुश्किल होता है।
  2. Search Volume: इसमें यह बताना है की कितनी बार उस keyword को गूगल मे serach किया जाता रहा है ज्यादा search volume होने पर keyword का potential अधिक होता है लेकिन ज्यादा competition भी होता है।
  3. Backlinks: यह बताना है कि कितनी other websites us keyword से लिंक कर रही हैं। ज्यादा और उच्च – गुणवत्ता के backlinks होने पर keyword का रेंकिंग competition में बेहतर परिणाम मिल सकता है।
  4. Content Quality: keyword से संबंधित उच्च गुणवत्ता वाले content का मान भी Keyword की कठिनाई को प्रभावित कर सकता है।

Keyword Defficulty कितनी होनी चाहिए?

Keyword Defficulty का “ideal”level एक universal standard नही होता है, क्योंकि यह आपके specific situation और goals पर depend करता है और इसके कुछ fectors भी हैं:

  1. Niche aur Industry: आपके niche या industry में cometition कितना होता है, यह काफी महत्वपूर्ण है। अगर आप एक high competition niche में हैं तो Keyword difficulty अधिक हो सकती है
  2. Website Authority: दोस्तो अगर आपकी वेबसाइट नई है या फिर आपकी वेबसाइट की domain authority कम है तो आप initially High difficulty keyword को target नही कर सकते। आपको पहले low या medium difficulty keyword पर काम करना चाहिए।
  3. Resources: आपके पास content create करना और pramotion के लिए कितना resources हैं यह भी काफी मैटर करता है। अगर आपके पास ज्यादा resources है तो आप ज्यादा competitive keyword पर भी काम कर सकते हैं।
  4. Traffic Goals: जैसे की आपके मन में कितना traffic पाना है, यह भी काफी महत्वपूर्ण होता है high difficulty keyword ज्यादा traffc ला सकते हैं लेकिन शुरुआती समय में आपको सबसे low difficulty keyword पर काम करना चाहिए।
  5. Long-term And short-term: दोस्तो अगर आप अधिक समय तक सफलता की तरफ जा रहे हैं तो high difficulty keyword पर भी काम कर सकते हैं और धीरे धीरे रैंकिन अपनी बढ़ा सकते हैं short term result के लिए आप low difficulty keyword target कर सकते हैं।
Conclusion

आज की पोस्ट में आपने सीखा “Hindi Blog Ke liye Keyword research kase Kare” इस पोस्ट में मैने वो सारी बातें कबर की हैं जो ब्लॉगर्स के लिए जरूरी हैं। उम्मीद करता हैं यह जानकारी आपके काम आयेगी। दोस्तो blogging से जुड़ी किसी भी जानकारी के बारे मे जानने के लिए आप हमसे कांटेक्ट कर सकते हैं। हमारी वेबसाइट www.pramodsaini.com पर आने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

Pramod Saini

Welcome! Thank you for visiting www.pramodsaini.com - a place where you can uncover the secrets of making money online. I am Pramod Saini, your companion and a fellow traveler in the world of making money online.

Leave a comment